What is LED? LED क्या हैं? यहाँ काम कैसे करता हैं?

What is LED? LED क्या हैं? यहाँ काम कैसे करता हैं?

हेल्लो दोस्तों, क्या आप जानते हैं की LED क्या हैं?(What is LED?) और यहाँ काम कैसे करता हैं? अगर आप जानते हैं तो ये बहुत अच्छी बात हैं, अगर नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं आज इस आर्टिकल में मैं आपसे LED के बारे में ही बात करने वाला हूँ. तो अगर आप जानना चाहते हैं की LED क्या होता हैं? और ये काम कैसे करता हैं. फिर इस आर्टिकल को शुरू से लेकर Last तक पूरा पड़े.

LED इसे Light Emitting Diode कहा जाता हैं. यहाँ एक ऐसा semiconductor device हैं जो की light emit करता हैं. इसमें जब current या electricity pass होती हैं इसमें Light तभी Produce होती हैं  आज कल LED का बहुत ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा हैं LED Technology के बारे में आज इस आर्टिकल में मैं आपको बताने जा रहा हूँ, LED क्या हैं. और यहाँ काम कैसे करता हैं, इसकी पूरी जानकारी आपको यहाँ मिल जाएगी तो चलिए बिना टाइम ख़राब करे जल्दी से जान लेते हैं.

LED क्या हैं (What is LED?)

LED का पूरा नाम Light Emitting Diode होता हैं, यहाँ एक नया आविष्कार हैं ओए आज कल इसे बहुत काम पे लिया जा रहा हैं. इसका उपयोग आज कल हर जगह किया जा रहा हैं LED Technology ने T.V. और Display की Picture Quality में बहुत सुविधा प्रदान की हैं, और इसके अन्य फायदे भी हैं.

LED ( Light Emitting Diode ) एक Semiconductor device होता हैं. जो Electric Current मिलने पर Light पास करती हैं. और डिस्प्ले पे दिखता हैं. इसकी light ज्यादा Bright नहीं होती हैं. और इसकी Waveform की दुरी एक ही होती हैं. ये अपनी Backlight के लिए Diode का इस्तेमाल करता है. और इसके Colors बाकी Display devices से ज्यादा साफ़ होते है.  इनकी कीमत LCD से अधिक होती है और LED को LCD का नया version माना जाता है LED को IRED भी कहा जाता है क्योंकि LED से जो Output निकलता है उसकी Range RedGreen या Blue होती है. और LCD TV  मुक़ाबले LED TV ज्यादा हलकी और पतली होती है.

LED का इतिहास ( History of LED ):

सबसे पहले British Scientist HJ Round ने 1907 में Markoni Laboratary में इसकी खोज कि थी. इसके बाद अमेरिका ने 1962 में इसे electronic device के रूप में प्रयोग में लाया गया. Scientist Nick Holonyak ने 1962 में LED का पहला प्रयोग किया और इन्हें LED का godfather भी माना जाता है.

सबसे पहले जब LED को प्रयोग में लाया गया था तो यह कम Light उत्पन करता था और इसमें से लाल रंग की रोशनी निकलती थी. शुरू में LED का इस्तेमाल Lndicator Lamp के रूप में किया गया था. उसके बाद Scientist Nick Holonyak ने LED की रोशिनी में बदलाव किया और इस तरह LED विकशित होती रही.

आजकल के समय में  में Scientist ने बहुत सुधार किया है. जिसके द्वारा LED बल्ब में से सफेद रोशनी  निकलती है जोकि पुरानी LED के मुक़ाबले बहुत ही अधिक रोशनी उत्पन करती है. इसका इस्तेमाल घर,गली,महौल्ले को प्रकाशित करने के लिए किया जाता है. आधुनिक LED लंबे समय तक चलती है और Electricty का काम इस्तेमाल होता है जिससे बिजली का उपयोग कम होता है.

Advantage of LEDs:

LED को बहुत ही कम current ओर voltage की जरुरत पड़ती हैं.

इसका response time बहुत ही कम होता हैं जो की केवल 10 nainoseconds होता हैं.

इसमें total power output बहुत कम होता हैं

इसे किसी प्रकार की कोई भी heating और warm-up time की जरुरत नहीं होती हैं

इनका size बहुत ही छोटी होती हैं और ये lightweight होता हैं.

इनकी बनाबट बहुत ही Rugged होती हैं और इसीलिए ये शॉक vibrations को सहन कर सकती हैं.

Disadvantage of LEDs:

यदि इस पर थोडा भी अधिक voltage और current का इस्तेमाल किया जाए तब आसानी से ख़राब हो सकता हैं.

यहाँ temperature depend करता हैं radiant output power और wavelength के ऊपर.

इस device की बहुत ज्यादा और wider bandwidth होता हैं लेज़र के compare में.

LCD क्या हैं? यहाँ काम कैसे करता हैं?

CRT क्या हैं और यहाँ काम कैसे करता हैं?

What is CPU? CPU क्या हैं?

What is Internet? इन्टरनेट क्या हैं?

LED के प्रकार:

दोस्तों LED के अविष्कार के बाद से इस टेक्नोलॉजी में लगातार बदलाब देखने को मिला हैं,

इसके बहुत Variety भी पाया जा रहा हैं, चलिए उनके बारे में जान लेते हैं.

  1. Traditional inorganic LEDs:
    इस Type के LED में Diode का traditional form होता हैं, इस technology को 1960 में बनाया गया था, इसे inorganic meterial के इस्तेमाल से बनाया जाता हैं. यहाँ जो सबसे ज्यादा इस्तेमाल में आने वाले compound Semiconductors हैं वो हैं Aluminium gallium arsenide, Gallium arsenide photsphide, आदि.
  2. High Brightness LEDs:
    यहाँ भी  inorganic  LED का ही एक Type हैं जिन्हें lighting application के लिए इस्तमाल किया जाता हैं, ये भी Basic Inorganic LED के सामने होता हैं, लेकिन greater light output होती है. high light output पैदा करने के लिए इन LEDs को ज्यादा higher current levels और power dissipation का सहन करना पड़ता हैं इन्हें heatsink के उपर mount किया जाता हैं इससे की unwanted heat को  बहार निकला जा सके. इन लाइट का इस्तमाल traditional lights के जगह में होता हैं.
  3. Organic LEDs:
    Organic LEDs Basic light emitting diode का थोडा advantage version होता हैं. इन LEDs में organic materials का इस्तमाल होता है, जैसे की इसके नाम से पता चलता हैं. Organic Type of LED display based होते हैं Organic materials के ऊपर जिन्हें की sheets के मदद से manufacture  किया जाता हैं. और जो एक diffuse area of light प्रदान करती हैं. यहाँ Typically एक बहुत ही पतली organic material की film को print किया जाता हैं. यहाँ एक substrate में जो की glass से बना होता हैं फिर एक semiconductor circuit का इस्तमाल किया जाता हैं जिससे की electrical charges को imprinted pixels तक लाया जा सके, जो की इसे Glow करने में मदद करते हैं.

इस प्रकार LED Technology में लगातार improvment किया जा रहा हैं. इससे की इनकी efficiency level को बढाया जा सके और इन्हें ज्यादा इस्तमाल में लाया जा सके.

तो दोस्तों आशा करता हूँ की आपको LED क्या हैं और यहाँ काम कैसे करता हैं इसकी पूरी जानकारी अब मिल गयी होगी. दोस्तों अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया हैं तो निचे कमेंट में जरुर लिखे, धन्यवाद.

Leave a Reply